Main Agar Kahoon Lyrics – Om Shanti Om, Shahrukh Khan & Deepika Padukone

You are currently viewing Main Agar Kahoon Lyrics – Om Shanti Om, Shahrukh Khan & Deepika Padukone

Main Agar Kahoon Lyrics – Om Shanti Om, Shahrukh Khan & Deepika Padukone

Main Agar Kahoon Song Lyrics – 

Tumko paaya hai to jaise khoya hoon

kehna chahoon bhi to tumse kya kahoon

kisi zabaan mein bhi

vo lavz hi nahi ki jinme tum ho kya tumhe bata sakoon

main agar kahoon tumsa haseen

qaynat mein nahi hain kaheen

taareef yeh bhi toh

sach hai kuch bhi nahi tumko paaya hain to jaise khoya hoon

shokhiyon mein doobi yeh adaayein

chehre se jhalki huyi hain

zulf ki ghani gahni ghatayen

shaan se dhalki huyi hain

lehrata aanchal

hai jaise baadal

baahon mein bhari hain jaise chaandni

roop ki chaandni

main agar kahoon

yeh dilkashi

hai nahi kaheen na hogi kabhi

taareef yeh bhi to sach hain kuch bhi nahi

tumko paaya hai to jaise khoya hoon

tum huye mehrbaan toh hai yeh daastaan

ab tumhara mera hai ek hai caravan

tum jahaan main vahaan

main agar kahoon hamsafar meri

apsara ho tum ki ya koi pari

tareef yeh bhi to sach hai kuch bhi naheen

tumko paaya hai to jaise khoya hoon

kehna chahoon bhi to tumse kya kahoon

kisi zaban mein bhi vo lavz hi nahi

ki jinme tum ho kya tumhe bataan sakoon

main agar kahoon tumsa haseen

qaynat mein nahi hai kaheen

tareef yeh bhi to

sach hai kuch bhi nahi

Main Agar Kahoon Lyrics Hindi – 

तुमको पाया है तो जैसे खोया हूँ

कहना चाहूँ भी तो तुमसे क्या कहूँ

तुमको पाया है तो जैसे खोया हूँ

कहना चाहूँ भी तो तुमसे क्या कहूँ

किसी जुबां में भी वो लफ्ज ही नहीं

के जिनमें तुम हो क्या तुम्हें बता सकूँ

मैं अगर कहूँ तुम सा हसीं

कायनात में नहीं है कहीं

तारीफ ये भी तो

सच है कुछ भी नहीं

तुमको पाया है तो जैसे खोया हूँ

कहना चाहूँ भी तो तुमसे क्या कहूँ

तुमको पाया है तो जैसे खोया हूँ

कहना चाहूँ भी तो तुमसे क्या कहूँ

किसी जुबां में भी वो लफ्ज ही नहीं

के जिनमें तुम हो क्या तुम्हें बता सकूँ

मैं अगर कहूँ तुम सा हसीं

कायनात में नहीं है कहीं

तारीफ ये भी तो

सच है कुछ भी नहीं

शोखियों में डूबी ये अदायें

चेहरे से झलकी हुई हैं

जुल्फ की घनी-घनी घटायें

शान से ढलकी हुई हैं

लहराता आँचल है जैसे बादल

बाहों में भरी है जैसे चाँदनी

रूप की चाँदनी

मैं अगर कहूँ ये दिलकशी

है नहीं कहीं ना होगी कभी

तारीफ ये भी तो

सच है कुछ भी नहीं

तुम हुए मेहरबान तो है ये दास्ताँ

अब तुम्हारा मेरा एक है कारवाँ

तुम जहाँ मैं वहाँ

मैं अगर कहूँ हमसफ़र मेरी

अप्सरा हो तुम या कोई परी

तारीफ ये भी तो

सच है कुछ भी नहीं

तुमको पाया है तो जैसे खोया हूँ

कहना चाहूँ भी तो तुमसे क्या कहूँ

किसी जबां में भी वो लफ्ज ही नहीं

के जिनमें तुम हो क्या तुम्हें बता सकूँ

मैं अगर कहूँ तुम सा हसीं

कायनात में नहीं है कहीं

तारीफ ये भी तो

सच है कुछ भी नहीं

Main Agar Kahoon Song 

Song – Main Agar Kahoon

Film – Om Shanti Om

Singer – Sonu Nigam, Shreya Ghosal

Leave a Reply